Tuesday, March 12, 2013

हांसिल करना मेरे जिद में नहीं

हांसिल करना मेरे जिद में नहीं ,वरना क्या मजाल थी तेरी ;
जो मुझसे बिना शिकवे -गिले किये दूर हो जाती ...